शनिवार, 16 अप्रैल 2016

दर्द होता है होना भी चाहिए ! हम कहाँ जा रहे हैं ? क्या आपको इस प्रश्न का उत्तर समाज आ रहा है ? या आपको प्रशन ही समाज नहीं आया ! मैं इस योग्य तो नहीं फिर भी चिंतन करना आवश्यक समझता हूँ ! आज समाचार माध्यमों विशेषकर श्रव्य दृश्य माध्यमों में दिल्ली सरकार द्वारा चलाये जा रहे एक अभियान के बारे में अत्यधिक शोर के मध्य यह प्रश्न मेरे मस्तिष्क में उत्पन्न हुआ !आपको पता ही होगा “ओड इवन” के सन्दर्भ में बात कहना चाहता हूँ ! क्या सनातन काल से जीवित राष्ट्र और सनातन काल से अस्तित्व रखने वाली हमारी राष्ट्र भाषा हमें इस अभियान के लिए नाम भी उपलब्ध नहीं करावा पति है ? इतनी संकीर्ण है हमारी राष्ट्र भाषा ? यदि वास्तव में ऐसा ही है तो फिर हमें किस बात का गर्व होना चाहिए ? अन्तोगत्वा हमें किस बात पर किस विरासत पर राष्ट्र गौरव अनुभव करना चाहिए ? सम्भवतः हमारे पास ऐसा कुछ भी शेष नहीं रह जाता जिस पर हम गर्व का अनुभव कर सकें तथा आनेवाली पीढ़ी को आत्म गौरव और राष्ट्र प्रेम के लिए प्रेरित कर सकें ! [kSj NksfM+, vEcsMdj th us jk’Vª dks D;k fn;k \ vius thou esa D;k & D;k lgk \ fdl & fdl us vEcsMdj dk fojks/k D;ksa fd;k Fkk \ bu lHkh iz”kuksa ds mRrjksa dk vuqla/kku djus dh tkxzfr Hkh bu rFkkdfFkr lekpkj ek/;eksa dks LorU=rk izkfIr vkSj vius Lo;a ds vfLrRo esa vkus ds brus le; mijkUr bl o’kZ dh vEcsMdj t;fUr ij izkIr gqbZA rks budh uh;r vkSj fufr nksuksa ij dksbZ Hkh iz”ufpUg “ksa’k ugha jg tkrkA nksuksa gh ifjfLFkfr;ksa ds lkis{k budk pfj= dsoy vkSj dsoy LokFkZiwfrZ gh jg tkrk gSA vkSj LokFkZ iwfrZ Hkh yksdrU= ds pkSFks LrEHk ds uke ij vflfer vf/kdkjksa ds lkFkA


bUgh iSjksdkjksa ds ne ij _f’k ijEijk]xq: nf{k.kk vkSj dfBu ijh{k.kksa ds dkj.k fo”o esa izfrf’Br gksus okyh bl jk’Vª dh loksZRd`’V f”k{kk iz.kkyh dks Þuks fMVs”ku fizosU”ku :yß nsdj lewy u’V fd;k tk pwdk gSA foKku dk lkekU; fl)kUr gesa fl[kkrk gS fd i`Foh ij ftfor jgus ds fy, la?k’kZ djuk vkSj la?k’kZ esa foftr gksuk vko”;d gSA D;k Þf”k{kk dk vf/kdkj vf/kfu;eÞ ds bl izko/kku ÞdqN Hkh gks vkidks f”k{kkFkhZ dks jksduk ugha gS mls dsoy mRrh.kZ gh ?kksf’kr djuk gSAß ds }kjk ge foKku ds mDr fl)kUr ds vuqlkj viuk vfLrRo cpk ik;saxsA fopkj djuk vko”;d gS ;k ugha \ fopkj fdft, -------------------------------------------------------------------------------------------------------